Saturday, March 14, 2009

“अधिनायकवाद की जय हो”

(संदर्भ डीजीपी को निर्वाचन आयोग द्वारा हटाया जाना )
-तपेश जैन

टी।एन.शेषन देश के ऐसे पहले निर्वाचन आयुक्त थे जिन्होंने चुनाव की पवित्रता बहाल करने की चेष्ठा की और अब विश्वरंजन भारत के ऐसे पहले पुलिस महानिदेशक हैं जिन्होंने निर्वाचन आयोग की दिन-ब-दिन बढ़ रही अतिरिक्त और अनावश्यक अधिकारवादिता को रोकने की चेष्टा की है । विश्वरंजन जैसे देश के भारतीय पुलिस सेवा के वरिष्ठतम्, अनुभवी और विचारवान अधिकारी ने जो भी कहा, लिखा उसके परिणाम में भले ही फौरी तौर पर उन्हें चुनाव आचरण संहिता के उल्लंघन करने वाला अधिकारी मानकर लोकसभा चुनाव कार्य से मुक्त करके चुप कराने की कोशिश की गई हो, सच्चाई यही है कि यह प्रकरण वैसा नहीं है जैसा बाहर से दिखाई देता है । इससे जुड़े प्रश्नों से जुझने की कोशिश को सिर्फ़ इसलिए नहीं टाली जा सकता कि ऐसा करना चुनाव आयोग की नज़रों में अवज्ञा होगी । यह भ्रम मात्र है । देश की व्यवस्था पर प्रश्न उभरते हैं तो उसे ढूँढने की कोशिश करने का सभी को अधिकार है । मात्र अफसोस जता कर सच्ची नागरिकता और मनीषा के जीवन्त होने को प्रमाणित नहीं किया जा सकता ।

घटनाक्रम का बारीकी से विश्लेषण करने से पहले यह जानना ज़रूरी है कि भारतीय निर्वाचन आयोग कितना शक्तिशाली है और उसकी स्वयं की आचरण संहिता कैसी है ? हम सभी जानते हैं कि वह चुनाव को दुष्प्रभावित करने पर लगाम कसने के सारे प्रशासनिक अधिकार प्राप्त हैं जिस पर अमल करना राज्य सरकारों के लिए लाज़िमी है । वह शासकीय अधिकारियों को दलगत, उम्मीदवार केंद्रित निष्ठा प्रदर्शित करने पर चुनाव से अलग कर सकती है, क्योंकि इससे चुनाव की पवित्रता भंग होती है । परन्तु यहाँ मामला ठीक उल्टा है । जिस पुलिस अधिकारी ने निर्वाचन आयोग को छत्तीसगढ़ में संपन्न विधानसभा में नेक सलाह दीं, उसे ही हस्तक्षेप माना गया है । यह चुभने की बात है । घटनाक्रम की सच्चाई यही है कि यह मामला राज्य निर्वाचन आयोग का था जिसमें निर्वाचन आयुक्त श्री आलोक शुक्ला के भीतर की अतिमहत्वाकांक्षा और अतिरिक्त कर्तव्यपरायणता राज्य के जिला पुलिस अधीक्षकों, खासकर नक्सलप्रभावित क्षेत्रों के, को चुनावी सुरक्षा के संबंध में वह सब कराना चाह रहे थे जो अव्यावहारिक और वास्तविक प्रयोजन के विपरीत था । इसमें उनके आईएएस के रूप में आईपीएस से सुपर होने और ऊपर से अधिनायक की जय हो प्रतिदिन प्रार्थना में दोहराने वाले देश के शक्तिसंपन्न (छोटे-मोटे, कर्मचारियों पर ही नहीं, बड़े-बड़े अधिकारियों पर भी गाज़ गिराने तक की ) चुनाव आयोग के राज्य प्रमुख होने का भाव भी हिलकोरें मार रहा था । वैसे हर आईएएस (आईपीएस भी) स्वयं को सबसे अधिक योग्य और गुणवान होने को सिद्ध करने की चेष्ठा करता रहता है । और वास्तव में वह है तो इसमें किसी बुराई भी नहीं । वैसे वास्तविक योग्य तो वही है जिसके प्रदर्शन के लिए उसे नकारात्मकता का सहारा और कुमार्गगामिता की ज़रूरत न पड़े । एक वास्तविकता यह भी है कि आईएएस और आईपीएस दोनों के बीच भी एक दूसरे से अधिक योग्य होने का छद्म भाव बना रहता है । बहरहाल घोर नक्सली समस्या से जुझ रहे बस्तर सहित कई पुलिस अधीक्षक राज्य निर्वाचन आयुक्त श्री शुक्ला के अप्रयोजनमूलक और व्यक्तिगत भावभूमि पर खड़े होकर दिये जा रहे लगभग तुगलकी आदेशों के खिलाफ कुछ बोल नही पा रहे थे । लगभग असहाय जीव की मुद्रा में । क्योंकि निर्वाचन आयोग के साथ जाने पर भारी जान माल की हानि और घनघोर नक्सलवादी संकट और नहीं जाने पर निर्वाचन आयोग का कलंक । उनके समक्ष मतदान जैसा राष्ट्रीय महत्व के उत्तरदायित्वो को अंजाम देने का दबाब था पर उससे कहीं ज्यादा माओवादियों के आक्रमण से मतदाताओं को सुरक्षित बचा लेने का राष्ट्रीय और नैतिक उत्तरदायित्व का दबाब भी । और ऐसा भी नहीं कि उनके समक्ष राज्य निर्वाचन आयोग के फरमानों के कारण आ रही अड़चनों से निपटने का सरल तरीका नहीं था । बेशक था । और वे वही श्री शुक्ला को बार-बार गुजारिश कर रहे थे । लेकिन बताया जाता है कि वे थे ही मान ही नहीं रहे थे । यही बात उन्होंने अपने विभाग के वरिष्ठतम् अधिकारी श्री विश्वरंजन को बताया । तब उन्होंने राज्य निर्वाचन आयोग तक नक्सल प्रभावित जिलो की अड़चनें और उससे बेहत्तर ढंग से निपटने के प्रकाशमान तरीके और सुरक्षात्मक पहलों की बात पहुँचायी । भीतरी सूत्र बताते हैं - इसे श्री शुक्ला ने हस्तक्षेप जैसा माना । संकट तो देखिये कि उन्हें यह विश्वरंजन जैसे वरिष्ठ और अनुभवी पुलिस अधिकारी का सुझाव प्रतीत नहीं हुआ जो देश की आंतरिक सुरक्षा का जिम्मेदार और सफल अधिकारी रहा हो । शायद यहाँ प्रशासनिक मन का अहंकार अधिक महत्वपूर्ण था । भीतरी प्रशासनिक सूत्र तो यहाँ तक बताते हैं कि एक बार तो ऐसा भी अवसर आया था जब निर्वाचन आयोग के किसी छायावादी संदर्भ का वास्ता देकर श्री शुक्ला मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक तक को कलेक्टर और पुलिस अधीक्षकों की बैठक नहीं लेने का संकेत भी दे डाले थे । कुल मिलाकर देखें तो बात कुछ भी नहीं थी । किन्तु कहीं ना कहीं राज्य निर्वाचन आयुक्त नहीं बल्कि श्री आलोक शुक्ला के मन में बड़े अधिकारियों की राय-मशविरों को अतिरिक्त आत्महीनता उपज रही थी । और उधऱ प्रदेश के बड़े अधिकारियों, कलेक्टरों सहित पुलिस अधीक्षक अपने ही भीतर के एक अधिकारी के एकाएक अप्रत्याशित व्यवहार से क्षुब्ध और परेशान थे । यह उनकी निजी रुचि, योग्यता का भी मामला हो सकता है और उनके मन में किसी निहितार्थ को फलीभूत करने की कोशिश भी । यदि ऐसा था तो उनकी आशाओं में निकट भविष्य में लोकसभा चुनाव का मौका भी सम्मिलित था । कारण जो भी हो इसी बीच वे राज्य से भारतीय निर्वाचन आयोग में पहुँच गये और इसी बीच भारतीय निर्वाचन आयोग से आदेश जारी हो गया कि अब विश्वरंजन के रहते राज्य मे लोकसभा का चुनाव निर्वाध रुप से नहीं हो सकता अतः राज्य की सरकार किसी और को उनका प्रभार दे ।

बहरहाल इस प्रकरण ने केंद्र और राज्य सरकारों के बीच मतभिन्नता के साथ ही निर्वाचन आयोग की कार्यप्रणाली पर भी प्रश्न चिन्ह खड़ा कर दिया है । वैसे भी आयोग में इससे पूर्व एक अन्य जो वरिष्ठ आयुक्तों के बीच सिर-फुटौवल ने इसकी मर्यादा को भंग किया ही है । चिन्तन का विषय है कि आयोग किस तरीके से बेहत्तर प्रणाली विकसित करे कि चुनाव निष्पक्ष और बिना किसी राजनीतिक मंशा से हो सके ।

40 comments:

天空 said...

辛苦了!祝你愈來愈好!........................................

艾維兒 said...

如果擬任為輸贏是最重要的事,那你輸了..................................................

勇氣 said...

偉大的致富萬能之鑰,正是幫你充分掌握自己心志所必須的自律自制..................................................

簡單 said...

感覺很好的blog,祝你開心喔........................................

佩璇 said...

TAHNKS FOR YOUR SHARING~~~VERY NICE ........................................

家瑩 said...

笑口常開~~天天開心........................................

志冠少菁伶義 said...

得意人,聽腳步聲就知道。 ....................................................

TimikaE_Harkey said...

KK777一夜激情聊天live show成人自拍貼圖自慰少婦自拍裸體圖片台灣色情成人網站情人視訊網情色留言板視訊美女免費視訊聊天室限制級極度震撼情色論壇色情特區自拍裸女貼圖潮吹性影片觀賞小穴情色片a圖片sex story性愛影片美女做愛成人色情網站性愛圖片成人情色貼圖全裸寫真集圖片走光圖女生陰毛自慰影片色情av1007成人色情聊天室女生自慰裸體照成人影音聊天台灣色情網站色情片打手槍情色天堂成人視訊聊天免費情色網站av網超性感辣妹激突成人論壇情色視訊聊天鹹濕成人網站av成人論壇免費美女視訊

子珠 said...

Cool blog網愛聊天室色情網站交友找啦咧免費影片成人笑話成人圖庫sexy女同志聊天室愛戀情人用品情趣爽翻天咆哮小老鼠入口85cc6k脫衣人妻sexy85c脫光光taiwansex淫女情色成人男女做愛美女做愛脫衣秀a片正妹淫蕩色情後宮040185c85c77p2p77p2p性幻想手淫18禁

奕玲 said...

讓人流連忘返,真期待新文章發表! ........................................

伯函 said...

I love readding, and thanks for your artical..............................................

韋于倫成 said...

仇恨是一把雙刃劍,傷了別人,也傷了自己..................................................

韋于倫成 said...

逛到您的部落格讓我忍不住停下來!期待您的新文章!!........................................

柏懿綺辰 said...

your son/daughter is so cute............................................................

刁陳 said...

人生就像一顆核桃,必須敲破它,才會顯出他的內容。 ..................................................

SadeRa盈君iford0412 said...

^^ 謝謝你的分享,祝你生活永遠多彩多姿!........................................

燕延 said...

免費看成人影片 免費視訊聊天室 聊天 免費色情漫畫 免費交友 女優色情片 性感 免費影片 辣妹自拍 成人聊天室 愛愛 情趣 18成人線上影片 少女做愛圖 85cc成人 免費a片 情色成人圖 色情片試看 一夜情 383 影音視訊 玩美女人影音秀 自拍美女 性`愛辣妹 人妻自拍貼圖區 做愛影片 a片下載 視訊聊天 a圖貼片站 正妹寫真 85cc免費無碼片 免費視訊 嘟嘟 85cc 歐美貼圖 援交 情人視訊 鋼管秀 avooo 洪爺情色聊天 大奶辣妹 sex520 下載免費a片 日本巨乳 拓網交友 後宮電影院主入口 限制級 0204電話聊天 美國性愛 走光寫真

千TatianaCallan惠 said...

Make yourself necessary to someone...................................................................

孫陽泉 said...

成熟,就是有能力適應生活中的模糊。....................................................................

江婷 said...

生存乃是不斷地在內心與靈魂交戰;寫作是坐著審判自己。......................................................................

怡潔怡潔 said...

成熟,就是有能力適應生活中的模糊。.................................................................

戴昀德 said...

人有兩眼一舌,是為了觀察倍於說話的緣故。............................................................

珮君 said...

人生是故事的創造與遺忘。............................................................

懿綺懿綺 said...

Failure is the mother of success...................................................

溫緯李娟王季 said...

這麼用心的經營你的文章, 當然值得我們留連拜訪的!............................................................

楊儀卉 said...

One swallow does not make a summer...................................................

宥妃宥妃 said...

Man is not made for defeat. A mean can be destroyed but not defeated..................................................................

楊家堯楊家堯楊家堯 said...

Say not all that you know, believe not all that you hear.............................................................

魏江伶魏江伶 said...

來問個安,誰不支持這個部落格,我咬他..................................................................

RicoLisi0802志竹 said...

耐心是一株很苦的植物,但果實卻很甜美。..................................................

蔡苡玄 said...

成熟,就是有能力適應生活中的模糊。............................................................

陳秀顏清鴻湖 said...

留言支持好作品~加油!期待進步和更新............................................................

宛淑芳真 said...

人生中最好的禮物就是屬於自己的一部份............................................................

亭亭亭蔡和亭亭亭蔡和 said...

Knowledge is power................................................

怡屏 said...

生存乃是不斷地在內心與靈魂交戰;寫作是坐著審判自己。. . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . . .

子怡谷怡谷怡谷翔 said...

與人相處不妨多用眼睛說話,多用嘴巴思考,............................................................

said...

時間就是塑造生命的材料。

幸平平平平杰 said...

生存乃是不斷地在內心與靈魂交戰;寫作是坐著審判自己。............................................................

洪勳劉耀德劉耀德華 said...

很棒的分享~留言支持!............................................................

偉DimpleHolloway043昀 said...

你不能決定生命的長度,但你可以控制它的寬度..................................................................